लोगो को बेचा जा रहा है बदबूदार मीट, कुम्भकर्णी नींद सोया फ़ूड विभाग, इससे फेल सकती है कभी भी बीमारी,कई विवाह समारोह में हो चुका है हंगामा

लोगो को बेचा जा रहा है बदबूदार मीट, कुम्भकर्णी नींद सोया फ़ूड विभाग, इससे फेल सकती है कभी भी बीमारी, कई विवाह समारोह में हो चुका है हंगामा

 

ब्यूरो रिपोर्ट

बिजनौर/अफज़लगढ़। बता दे कि एक बड़ी खबर सामने आरही है जहाँ मुख्यमंत्री योगी जी ने मुस्लिम समाज के सहित अन्य मीट का शोक रखने वाले लोगो को एक बड़ी राहत दी थी सभी मीट की दुकानों में फ्रीज़र और साफ सफाई के विशेष इंतेज़ाम रखने के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये थे! ताकि लोगो को शुध्द मीट उपलब्ध हो सके। लेकिन नगर और आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में भैंस का बदबूदार और गंदा मीट बेचे जाने को लेकर मीट खाने वाले शौकीनों में भारी नाराजगी देखने को मिल रही है। एक दिन पूर्व कालागढ़ मार्ग स्थित नगर के मैरेज हाल में शादी में बनने के लिए आए भैंस के मीट में जबरदस्त बदबू आने के कारण हंगामा हो गया सप्लायर ने माफी मांग कर पीछा छुड़ाया। मीट विक्रेताओं की दुकानों पर भी मानक पूरे न होने के बावजूद मीट बेचा जा रहा है। मीट प्लांट से दलालों के माध्यम से ऊंचे दामों पर बेजा जा रहा है मीट शिकायत करने पर अधिकारी ध्यान नहीं देते। प्राप्त जानकारी के अनुसार मुस्लिम समाज में ब्याह शादियों एवं प्रतिदिन भोजन में इस्तेमाल होने वाले भैंस के मीट से बनने वाले खास व्यंजन मुकाम रखते हैं। परंतु ताजा मीट काटन पर लगे प्रतिबंध के बाद नगर एवं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों पर भैंस के मीट की लाइसेंस की दुकानों पर गन्दा व बदबूदार मीट बेचे जाने को लेकर मीट खाने वाले शौकीनों में जबरदस्त नाराजगी दिखाई दे रही है। साथ ही बीमारी फैलने का खतरा बढ़ता जा रहा है। भैंस के मीट के अवैध कटान पर प्रतिबंध के बाद प्रशासन ने भैंस का मीट बेचने को लेकर लाइसेंस जारी किए थे परंतु भ्रष्ट अधिकारियों के चलते भैंस के मीट की दुकानों के लाइसेंस तो बने परन्तु दुकानों पर मानक पूरे ना होने के बावजूद भी मीट धड़ल्ले से बचा जा रहा है। धामपुर मार्ग स्थित एक मैरिज हॉल में उक्त हंगामा हो गया जब एक व्यक्ति ने अपनी बेटी की शादी के लिए 55 हजार का मीट खरीदा था मीट में बदबू आ रही थी परंतु मीट सप्लायर समझा बुझाकर मीट देकर चला गया जैसे ही मीट पकाने के से पूर्व धोने के लिए टबों में पलटा तो पूरे मैरिज हॉल में बदबू फैल गई बारात आने में चंद घंटे बाकी थे तुरंत ही मीट विक्रेता को बुलाया तो उसने अपनी गलती मानते हुए माफी मांग कर पीछा छुड़ा लिया। परंतु बरात आने में थोड़ी देर बाकी थी लड़की के परिजनों ने आनंन फानंन चिकन मीट का इंतजाम कर अपनी इज़्ज़त बचाई। यदि बदबूदार मीट बन जाता तो पूरी बारात व खाने वालों में जबरदस्त फूड प्वाइजन आदि बीमारी फैल सकती थी। क्षेत्र में सत्ता के बलबूते पर कुछ बिचौलिए दलालों के द्वारा ही मनमाने दामों पर मीट सप्लाई होता है। मीट के मूल्य का कोई मानक नहीं है मीट विक्रेता प्रति किलो 240 रूपए से 260 और 280 प्रति किलो बेचा जा रहा है। जब कि उन्ही मीट प्लांट से आने वाला मीट नगर से मात्र 20 किलोमीटर पर जसपुर उत्तराखंड में 200 रूपए प्रीति किलो बिक रहा है। यदि कोई खरीदार मीट के रेट या मीट की क्वालिटी को लेकर नाराजगी जताता है, तो उसके साथ गाली-गलौच व अभद्र व्यवहार कर उसको धमकाया जाता है! यहां तक मारपीट भी की जाती है। भैंस कै मीट विक्रेताओं एवं खरीदारों के दरमियान गंदा और बेकार मीट जो खाने काबिल नहीं होता तथा हड्डियां जो फेंकने काबिल होती हैं! उनको लेकर प्रतिदिन प्रत्येक दुकान पर हंगामा होता है कुछ दिन पूर्व नगर के मौहल्ला बेगम सराय निवासी मौहम्मद इरफान के साथ घटिया मीट और रेट को लेकर गाली गलौज हुई और मारपीट तक नौबत आ गई थी जिसको लेकर उसने अधिकारियों को पत्र लिखकर मीट विक्रेताओं की शिकायत कर जांच करने की मांग की परंतु फरियादी की सुनवाई ना हो सकी। भैंस के मीट विक्रेता सीना ठोकर कहते हैं कि उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता क्योंकि वह जनपद केफूड इंस्पेक्टर को महीना देते हैं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: