बी के टी सी,ने मंदिरों में चलाया स्वच्छता और जन जागरूकता अभियान,

बी के टी सी,ने मंदिरों में चलाया स्वच्छता और जन जागरूकता अभियान,

 

 

ब्यूरो रिपोर्ट

देहरादून! अयोध्या में भगवान श्री राम की जन्मस्थली में उनके मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष्य में, उत्तराखंड में रविवार को श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) ने अधीनस्थ मंदिरों में स्वच्छता और जन जागरूकता अभियान चलाया।
इस अभियान में महिला मंगल दल सहित स्कूल, कॉलेजों के विधार्थियों तथा राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के कैडेटों को शामिल किया गया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अयोध्या में भगवान श्री राम लला मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह 22 जनवरी के उपलक्ष्य में आज से दीपोत्सव, भक्ति -भजन, जागरण कार्यक्रमों, स्वच्छता अभियान के लिए प्रदेशवासियों का आह्वान किया। इसी दौरान, उन्होंने स्वयं नैनीताल जनपद में विश्व विख्यात बाबा नीम करौली की तप स्थली कैची धाम में साफ, सफाई के बाद पूजा-अर्चना की और धाम में आने वाले भक्तों को प्रसाद वितरित किया। वहीं बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय के निर्देश पर अधीनस्थ सभी मंदिरों में, विशेष पूजा, दीपोत्सव, स्वच्छता अभियान के क्रम में आज गुरु शंकराचार्य गद्दी स्थल, श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ सहित नव दुर्गा मंदिर, वासुदेव मंदिर, गोपाल मंदिर, नंद प्रयाग, सीता माता मंदिर, चाई तथा श्री ओंकारेश्वर मंदिर, उखीमठ, श्री विश्वनाथ मंदिर, गुप्तकाशी, श्री त्रिजुगी नारायण मंदिर, काली माता मंदिर, कालीमठ, वाराही मंदिर सहित सभी मंदिरों में भी जनजागरण एवं स्वच्छता अभियान शुरू हो गया।
यह भगवान श्री राम लला मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद तक चलेगा। वहीं बीकेटीसी के मीडिया प्रभारी हरीश गौड़ ने बताया कि जन जागरण एवं स्वच्छता अभियान में मंदिर समिति कर्मचारी, स्थानीय जनता तथा शिक्षण संस्थायें महिला मंगल दल भी स्वेच्छा से शामिल हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि जोशीमठ श्रीनृसिंह मंदिर में चले अभियान में मंदिर समिति कर्मचारी तथा महिला मंगल दल, जोशीमठ के पदाधिकारी सदस्य भी शामिल रहे। इस अवसर पर बीकेटीसी उपाध्यक्ष किशोर पंवार ने अभियान में शामिल रहकर कर्मचारियों का उत्साह वर्धन किया। डॉ. गौड़ ने बताया कि
देवताओं के खजांची श्री कुबेर जी के शीतकालीन प्रवास पांडुकेश्वर स्थित नव निर्मित मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह कार्यक्रम के तीसरे दिन आज महाविद्या पाठ चलता रहा। अब सोमवार को पूर्णाहुतिहवन यज्ञ के बाद श्री कुबेर जी नए मंदिर में विराजमान होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: