धमपुर चीनी मिल में कृषको को 0238 गन्ना बिना बीमारी के कैसे बोय इसके बारे में डॉ बक्सी राम ने बताया,हेक्सास्टॉप के पानी मैं घोल बनाकर कम से कम 12 घंटे डूबाने के बाद ही गन्ना बीज को बुवाई के लिए प्रयोग करें

धमपुर चीनी मिल में कृषको को 0238 गन्ना बिना बीमारी के कैसे बोय इसके बारे में डॉ बक्सी राम ने बताया, हेक्सास्टॉप के पानी मैं घोल बनाकर कम से कम 12 घंटे डूबाने के बाद ही गन्ना बीज को बुवाई के लिए प्रयोग करें

 

 

 

शमीम अहमद

धामपुर। शुगर मिल में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें कोयम्बटूर गन्ना शोध संस्थान के पूर्व डायरेक्टर को 0238 के जनक व पद्वश्री से सम्मानित डॉ बख्शी राम के द्वारा चीनी मिल क्षेत्र में जैसे मिल गेट शेरकोट, व मोरना जॉन के गांव व खेतों पर जाकर किसानों की गन्ना बुवाई हेतु सुझाव व नयी गन्ना प्रजाति लगाने हेतु किसानो को जानकारी दी। डॉ बक्शी राम ने सभी गांव में खेतों पर उपस्थित किसानों से संपर्क कर उनसे जानकारी ली! और मिल परिसर में एक विशाल कृषि गोष्ठी को संबोधित किया। जिसमें हजारों किसानों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया! उन्होंने किसानों को बताया कि जिन खेतों में 0238 गन्ना प्रजाति को रेड-रोट बीमारी नहीं लगी है, यह सभी किसान भविष्य में इस बीमारी से गन्ना प्रजाति को 0238 रेड-रोट बीमारी से बचाव के लिए गन्ना बुवाई से पहले ट्राइकोडर्मा को गोबर की खाद में मिलाकर भूमि उपचार हेतु आखिरी जुटाइ पर अवश्य प्रयोग करें! जिससे मिट्टी में उपस्थित हानिकारक बीजाणु व फंफूदी समाप्त हो जाएगी! इसी के साथ स्वास्थ्य खेत से स्वास्थ्य गन्ना बीज लेकर दो आँख के टुकड़े काटकर एक दिन पहले शाम को नाली होजिया या गड्ढा खोदकर उसमें पॉलिथीन बिछाकर हेक्सा स्टॉप के पानी मैं घोल बनाकर कम से कम 12 घंटे डूबने के बाद ही अगले दिन गन्ना बीज को बुवाई के लिए प्रयोग करें इससे बीज के द्वारा फैलने वाली रेड रोट बीमारी के विजारू समाप्त हो जाएंगे! इस प्रकार भूमि उपचार व बीज उपचार कर गन्ना प्रजाति को 0238 कदापि न बोय! इसके साथ पर ट्राईकोडरमा द्वारा भूमि उपचार व हैक्सास्टॉप से बीज उपचार करके को. 0118, को 15023 व को लख. 14201 ही लगाये! तथा सभी किसानों को यह भी सलाह दी गई के सिंगल लाइन से लाइन की दूरी 4 से 5 फीट पर ही किसान भाई गन्ने की बुवाई करें! गन्ना बोने के बाद खेत में पाटा ना लगेये! नाली में बीज के ऊपर 1 से 1. 5 इंच मिट्टी ही चढ़ाये! इससे गन्ने का ब्यात ज्यादा होगा! जिससे किसान को अधिक पैदावार मिलेगी! इस अवसर पर विभिन्न प्रकार की कंपनियों द्वारा स्टाल लगाकर प्रचार प्रसार हेतु एक कृषि प्रदर्शनी का आयोजन किया गया!
जिसमें महिला समूह है (नैनसिवला), एफएमसी, कोराजन, व कोरामंडल, किर्लोस्कर, मिनी एग्रीकल्चर, इंजन धामपुर, भारत एग्रीकल्चर मिनी इंजन, वह विभिन्न प्रकार की कंपनियों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया! इस अवसर पर महाप्रबंधक श्री ओमवीर सिंह ने बताया कि छोटे ट्रैक्टर किसनों की गन्ने की खेती बहुत उपयोगी सिद्ध हुई है! इससे क्रषकों की खेती लागत में कमी आएगी, ट्रेंच विधि से गन्ने की बुवाई कर गाने की निराई गुडाई व मिट्टी चढ़ाई में बहुत उपयोगी है इससे किसानों की पैदावार बढ़ाने के साथ-साथ लेबर समस्या भी हल होगी! इसी के साथ-साथ चीनी मिल द्वारा गन्ना विकास योजनाओं के अंतर्गत कृषको को दी जाने वाली सुविधाओं जैसे- पेस्टिसाइड, ट्राइकोडर्मा,मृदापरीक्षण,व कृषी यंत्रों पर दी जाने वाली छूट के बारे में विस्तार से बताया! इस अवसर पर गोष्ठी में क्षेत्र के समस्त सम्मानित किसान के साथ-साथ धामपुर शुगर मिल के एम.डी. श्री गौरव गोयल के सुपुत्र श्री ईशान गोयल, श्री अक्षतकपूर, (सी.ई.ओ), श्री सुभाष पांडे, ( अध्यक्ष/पूर्णकालिक निर्देशक), एवं श्री ओमवीर सिंह, (महाप्रबंधक गन्ना), व कारखाना प्रबंधक श्री विजय कुमार गुप्ता, श्री मनोज चौहान व श्री सुरेंद्र सिंह, (वरिष्ठ प्रबंधक गन्ना) श्री विकास कुमार अग्रवाल, ( महाप्रबंधक वित्त एवं लेखा) श्री डी. एस. रेड्डी (टेक्निकल जी.एम.) श्री उपेंद्र तोमर, (प्रोडक्शन जी. एम.), एवं चीनी मिल के समस्त अधिकारी गण आदि उपस्थित रहे!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: