बिजनौर, बाढ़ से बचाने के लिए मजबूत किया जाएगा गंगा और मालन का तटबंध

बिजनौर, बाढ़ से बचाने के लिए मजबूत किया जाएगा, गंगा और मालन का तटबंध

 

 

ब्यूरो रिपोर्ट

बिजनौर। बरसात में गंगा की तेज धारा नियंत्रित करने के लिए तटबंध को मजबूत करने की कवायद धरातल पर उतरने जा रही है। दरअसल, तटबंधों की चार परियोजनाओं को शासन की मंजूरी मिल चुकी है। करीब 24 करोड़ की लागत से गंगा नदी के तटबंध पर कटान रोधी निर्माण कराए जाएंगे। वहीं मालन नदी के तटबंध की ऊंचाई को भी बढ़ाया जाएगा। बिजनौर बैराज से रावली तक करीब आठ किलोमीटर लंबा तटबंध बना हुआ है। इस तटबंध पर सड़क भी बनी है, जिससे लोग आवाजाही भी करते हैं। इस बार बरसात में गंगा की धारा तटबंध की ओर मुड़ गई थी, ऐसे में तटबंध को खतरा पैदा हुआ और टूटने की आशंका सताने लगी थी। इसे देखते हुए मध्य गंगा नहर खंड पांच की ओर से प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा गया। उक्त प्रस्ताव को शासन की मंजूरी मिल चुकी है। इससे तटबंध पर तीन अलग अलग जगह कटान रोधी कार्य कराए जाएंगे, जिन पर करीब 23 करोड़ की लागत आएगी। तटबंध को बचाएंगे स्पर तटबंध की तरफ गंगा की धारा रुख नहीं कर पाए, इसके लिए तटबंध के अलग अलग जगहों पर स्पर बनाए जाएंगे। पत्थर से बनाए जाने वाले स्पर गंगा की धारा के तेज बहाव को तटबंध की तरफ नहीं मुड़ने देंगे। मालन के तटबंध की बढ़ेगी ऊंचाई बड़कला गांव के पास मालन नदी के किनारे पर तटबंध बना हुआ है, जोकि काफी पुराना है। इसकी ऊंचाई कम होने की वजह से पानी उतरने और तटबंध के टूटने का खतरा बना रहता था। एक करोड़ 17 लाख की लागत से इस तटबंध की ऊंचाई बढ़ेगी। तटबंध पर कटान रोधी कार्य कराए जाने के लिए चार परियोजनाओं को मंजूरी मिली है। ये परियोजनाएं करीब 24 करोड़ की हैं। जल्द ही निविदा प्रक्रिया भी चालू कर दी जाएगी। सदर विधायक के प्रयासों से प्रस्तावों को मंजूरी मिल सकी है। बृजेश मौर्य, अधिशासी अभियंता, मध्य गंगा नहर निर्माण खंड पांच”!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: