बलिदान दिवस के अवसर पर पूर्व विधायक राजेश शुक्ला ने अपने आवास पर कार्यकर्ताओं के साथ उनके चित्र पर पुष्पांजलि कर श्रद्धांजलि दी

बलिदान दिवस के अवसर पर पूर्व विधायक राजेश शुक्ला ने अपने आवास पर कार्यकर्ताओं के साथ उनके चित्र पर पुष्पांजलि कर श्रद्धांजलि दी

ब्यूरो रिपोर्ट

किच्छा! डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के अवसर पर पूर्व विधायक राजेश शुक्ला ने अपने आवास पर कार्यकर्ताओं के साथ उनके चित्र पर पुष्पांजलि कर अपनी श्रद्धांजलि दी। आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक राजेश शुक्ला ने कहा एक देश में, एक प्रधान, एक विधान, एक निशान के मुद्दे और भारत की अखंडता को लेकर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने 23 जून 1953 को अपना बलिदान दिया था। देश 1947 में आजाद हुआ और 1950 में संविधान लागू किया गया। इसके बाद तत्कालीन कांग्रेस नेतृत्व की सरकार ने देश के संविधान में धारा-370 जोड़कर राष्ट्रीय अखंडता को गंभीर चोट पहुंचाने का कुत्सित प्रयास किया था। डॉ. मुखर्जी उस समय उद्योग व खाद्य मंत्री के रूप में देश की सेवा कर रहे थे, लेकिन सरकार की मंशा को ध्यान में रखकर उन्होंने पद छोड़ दिया और देश की प्रतिष्ठा व अखंडता के लिए कश्मीर से धारा-370 हटाने के लिए व्यापक आंदोलन प्रारंभ किया। डॉ. मुखर्जी को भारत माता का महान सपूत, प्रख्यात स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, अखंड भारत का स्वप्नदृष्टा बताया। कहा कि उन्होंने भारतीय जनसंघ के हजारों कार्यकर्ताओं के साथ कश्मीर सत्याग्रह के लिए अभियान प्रारंभ किया, इसके लिए उन्हें प्राण भी त्यागना पड़ा। कश्मीर में धारा-370 समाप्त कर एक देश में एक प्रधान, एक विधान, एक निशान की भावनाओं को सम्मान करने का कार्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की एनडीए सरकार ने किया है। यह कश्मीर, देश की अखंडता और सीमा की सुरक्षा के लिए बलिदान देने वालों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है। कार्यक्रम को धर्मराज जायसवाल, ठाकुर संजीव सिंह, लता सिंह, पूनम अग्रवाल ने भी संबोधित किया। संचालन मण्डल महामन्त्री गोल्डी गोराया व मुकेश कोली ने किया। इस दौरान कार्यक्रम संयोजक नितिन चरण, सह संयोजक पूनम अग्रवाल, वरिष्ठ भाजपा नेता स्वतंत्र राय, कुंदन लाल खुराना, पूर्व मंडल अध्यक्ष विवेक राय, महिला मोर्चा मंडल अध्यक्ष आरती दुबे, किसान मोर्चा मंडल अध्यक्ष प्रदीप पुजारा, अल्पसंख्यक मोर्चा मंडल अध्यक्ष हारून मलिक, युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष दिव्यांश लूथरा, अनुसूचित मोर्चा मंडल अध्यक्ष राजेश कोली रज्जी, कविता मान, मीना शर्मा, सुनीता गंगवार, जितेंद्र गौतम, जानकी तिवारी, महेंद्र पाल, हीरा सरकार ,चंदन जायसवाल, श्याम सुंदर बिष्ट, मूलचंद राठौर, कुलदीप बग्गा, देवेंद्र शर्मा, त्रिलोक नेगी, अमरनाथ कश्यप, पूरन भट, प्रकाश पंत, सचिन वाल्मीकि, विवेक कुमार, खेमकरण कश्यप, मूलचंद कोली, राजू भारद्वाज, राजीव भारद्वाज, अमित कोली, अजय पाल, राजकुमार कोली समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने अपनी श्रद्धांजलि दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: